प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना (Hindi) – Pradhan Mantri Ujjwala Yojana

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना क्या है: प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना केंद्र सरकार की समाज कल्याण योजना है| योजना की शुरुआत 1 मई 2016 को उत्तर प्रदेश के बालियाँ जिले में प्रधानमंत्री नरेंदर मोदी ने की थी | सरकार का उद्देश्य उज्ज्वला योजना के माध्यम से देश के सभी BPL परिवारों को LPG कनेक्शन देना है | योजना का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्र की खाना पकाने वाली महिलाओं के स्वास्थ्य के लिये हानिकारक इंधन को छोड़ कर उर्जा के नए स्रोतों को बढ़ावा देना है|

Pradhan Mantri Ujjwala Yojana

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना का उद्देश्य

योजना का मुख्य उद्देश्य BPL श्रेणी की महिलाओं को 5 करोड़ LPG कनेक्शन देना है ताकि सभी महिलाएं बेहतर इंधन का उपयोग कर सकें| योजना के कुछ उद्देश्य निचे दर्शाए गए हैं |

  1. महिलाओं को बढ़ावा देंना उनके स्वास्थ्य की रक्षा करना है|
  2. खाना पकाने में उपयोग होने वाले स्वास्थ्य के लिये हानिकारक इंधन से मुक्त करना है|
  3. हानिकारक इंधन से हो रही मृत्यु दर को कम करना|
  4. असुरक्षित इंधन से बच्चों को बचाना है|
प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के लिये आवेदन कैसे करें

योजना के आवेदन का प्रारूप निचे हिंदी और अंग्रेजी में दिया गया है|

फार्म को भरने से पहले आवेदक निश्चित कर लें की आप आवेदन के योग्य हैं या नहीं

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के अंतर्गत केवल वे ही महिलाएं आवेदन सकती हैं जिनका सम्बन्ध BPL परिवारों से होगा|

आवेदन पत्र 2 पन्नो का होगा जिसमें आवेदक की समान्न्य जानकारी जैसे नाम,पता,फोन नंबर,आधार कार्ड नंबर इत्यादि| इच्छुक परिवार आवेदन ठीक प्रकार से भर कर कागजों की फोटो कॉपी के साथ आवेदन करें|

हिन्दी आवेदन पत्र:

pradhan mantri ujjwala yojna

अंग्रेजी आवेदन पत्र: 

ujjwala-yojana-application-form-eng-page-1

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना में लगने वाले प्रमाणों की सूचि :

1 . 2011 की जनगणना की SECC की सूचि की प्रति

2 . BPL राशन कार्ड की ऑनलाइन डिटेल

3 . आवेदक के मतदाता पहचान पत्र की प्रति

4 . तत्कालीन पासपोर्ट आकार 4 फोटो

5 . आवेदक का खाता संख्या तथा पासबुक की प्रति

आवेदन को पूर्ण रूप से भरकर सम्बंधित कागजों की प्रति साथ लगाकर अपने नजदीक के LPG गैस एजंसी में जमा करें|

उज्ज्वला योजना का लाभ लेने के लिये योग्यता:

1 . आवेदक का SECC-2011 के डेटा सूचि में नाम

2 . आवेदक की आयु 18 वर्ष से अधिक

3 . आवेदक BPL परिवार का होना चाहिए|

4 . आवेदक का जिले के किसी भी बैंक में खाता होना चाहिए|

5 . आवेदक केवल महिला होनी चाहिए|

6 . आवेदक के नाम या घर में किसी अन्य के नाम LPG कनेक्शन नहीं होना चाहिए|

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना कुल बजट /अनुदान :

सरकार ने पहले ही  वित्त वर्ष 2016-17 के लिए उज्ज्वला योजना कार्यान्वयन के लिए 2000 करोड़ रुपये खर्च कर रही है । सरकार चालू वित्त वर्ष के भीतर लगभग 1.5 करोड़ बीपीएल परिवारों को एलपीजी कनेक्शन वितरित करेगी।

8000 करोड़ तीन वर्षों में इस योजना के क्रियान्वयन के लिए सरकार द्वारा खर्च  किया जाएगा  ।  इस योजना में  GIV TI UP  अभियान के माध्यम से एलपीजी सब्सिडी में बचाये हुए पैसों का उपयोग कर लागू किया जाएगा।

 प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना – वित्तीय सहायता:

योजना में पात्र बीपीएल परिवारों को प्रत्येक एलपीजी कनेक्शन के लिए 1600  रुपए की वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी  । इस योजना के तहत कनेक्शन BPL परिवारों की महिलाओं  के नाम पर दिया जाएगा।

सरकार  स्टोव और सिलेंडर  की लागत को पूरा करने के लिए परिवारों को ईएमआई की सुविधा भी  प्रदान करेगी।

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना – कार्यान्वयन:

योजना को  पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय द्वारा लागू किया गया है ।

यह योजना तीन साल, वित्तीय वर्ष 2016-17, 2017-18 और 2018-19 तक चलेगी ।

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना- रसोई गैस वितरण की वर्तमान स्थिति:

भारत में आज भी 24 करोड़ घरों में से  लगभग 10 करोड़ परिवार एलपीजी कनेक्शन के अभाव में जलाऊ लकड़ी, कोयला, गोबर आदि का उपयोग कर रहे हैं |

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के बारे में त्वरित विवरण:

योजना                       विवरण
योजना का नामप्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना
आरम्भ तिथि1 मई 2016
मुख्य उद्देश्यBPL परिवारों की महिलाओं को LPG कनेक्शन देना
अन्य उद्देश्यवायु प्रदुषण को कम करना और ऊर्जा के नए साधनों का प्रयोग
लक्ष्य2019 तक 5 करोड़ BPL परिवारों को LPG का वितरण
समय अंतराल 3 वर्ष    2016 से 2019 तक
कुल लगत 8000 करोड़
वित्तीय सहायता1600 / – प्रति एलपीजी कनेक्शन
पात्रताSECC-2011 के आंकड़ों में उपलब्ध बीपीएल उम्मीदवारों को
अन्य सुविधाएंस्टोव और सिलेंडर की लागत को पूरा करने के लिए ईएमआई की सुविधा

 योजना की अधिक जानकारी के लिए इस नंबर पर कॉल करे – 1800 266 6696

6 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *